वकील इंदिरा जयसिंह ने कहा- निर्भया की मां दोषियों को माफ कर दें; आशा देवी बोलीं- भगवान भी कहे तो माफ नहीं करूंगी

वकील इंदिरा जयसिंह ने कहा- निर्भया की मां दोषियों को माफ कर दें; आशा देवी बोलीं- भगवान भी कहे तो माफ नहीं करूंगी

  • दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट ने 7 जनवरी को निर्भया के दोषियों को 22 जनवरी की सुबह 7 बजे फांसी पर लटकाए जाने का डेथ वारंट दिया था|
  • 17 जनवरी को नया डेथ वारंट जारी किया गया है| जिसमें 1 फरवरी को सुबह 6 बजे फांसी देने का आदेश दिया गया है| 
  • वरिष्ठ  वकील इंदिरा जयसिंह ने निर्भया के मां से अपील करते हुए कहा कि हत्या कांड के मामले में उन चारों दोषियों को माफ कर दें| 
वकील इंदिरा जयसिंह ने कहा- निर्भया की मां दोषियों को माफ कर दें; आशा देवी बोलीं- भगवान भी कहे तो माफ नहीं करूंगी
वकील इंदिरा जयसिंह ने कहा- निर्भया की मां दोषियों को माफ कर दें; आशा देवी बोलीं- भगवान भी कहे तो माफ नहीं करूंगी

 

 

नई दिल्ली /रिष्ठ  वकील इंदिरा जयसिंह ने निर्भया के मां से अपील करते हुए कहा कि

वह 2012 में हुए निर्भया के साथ गैंगरेप और हत्या कांड के मामले में उन चारों दोषियों को माफ कर दें| 

उन्होंने कहा कि उनके लिए फांसी की सजा ना मांगे| इस पर निर्भया की मां आशा देवी ने कहा की वह

ऐसा सुझाव देने वाली कौन होती हैं| अगर यह बात भगवान भी कहे तो मैं उन  दोषियों को माफ नहीं करूंगी|

आपको बता दें शुक्रवार को दिल्ली कोर्ट द्वारा निर्भया के दोषियों के वारंट पिताजी को आगे बढ़ाए जाने के

मामले में निर्भया की मां ने नाराजगी जाहिर की थी| उन्होंने कहा था कि जो लोग 2012 में महिला

सुरक्षा के नारे लगाकर रैलियां कर रहे थे| वही लोग आज राजनीतिक फायदे के लिए

दोषियों को सजा दिलवाने के मामले में देरी कर रहे हैं|

 

इस पर इंदिरा ने ट्वीट किया, और कहा कि मैं निर्भया की मां आशा देवी दर्द पूरी तरह से समझ सकती हूं|

                                                                                                                          यह भी पढ़ें

सुंदर पिचाई के सीईओ बनने के डेढ़ महीने में अल्फाबेट के वैल्यूएशन में 12% इजाफा   सुंदर पिचाई

मगर मैं उनसे अपील करती हूं कि वह उन दोषियों के लिए फांसी की मांग ना करें| इसके लिए

उन्होंने सोनिया गांधी करने को कहा, जिन्होंने नलिनी हमारे (पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की

हत्या की दोषी) कोमा कर दिया था| उसके लिए मौत की सजा नहीं चाहती|

 

 निर्भया की मां आशा देवी ने कहा इंदिरा जयसिंह जैसे लोगों की वजह से न्याय नहीं मिल पाता :

 

वकील इंदिरा जयसिंह के बयान पर निर्भया की मां आशा देवी ने कहा, मुझे ऐसा सुझाव देने वाली

इंदिरा जयसिंह कौन होती हैं| मेरे साथ पूरा देश चाहता है कि इन चारों दोषियों को फांसी दी जाए|

वकील इंदिरा जयसिंह ने कहा- निर्भया की मां दोषियों को माफ कर दें; आशा देवी बोलीं- भगवान भी कहे तो माफ नहीं करूंगी

इंदिरा जयसिंह  जैसे लोगों की वजह से दुष्टकर्म पीड़ित को न्याय नहीं मिल पाता| आशा देवी ने कहा

मुझे विश्वास नहीं होता कि इतनी बड़ी और वरिष्ठ वकील इंदिरा जयसिंह ने इस तरह का सुझाव दिया|

मैं सुप्रीम कोर्ट में उनसे कई सालों तक मिली| एक बार भी मेरे बारे में नहीं सोचा और आज भी

दोषियों के लिए बोल रही हैं| ऐसे लोग दुष्टकर्मियों का समर्थन करके आजीविका चलाते हैं|

इसीलिए रेप की घटनाएं बंद नहीं हो रही|

 

पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की हत्या की दोषी नलिनी

 

1991 में पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की हत्या कि साजिश मैं दोषी नलिनी शामिल है| आपको बता दें

क्यों पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की हत्या में नलिनी को कोर्ट ने फांसी की सजा सुनाई थी| जिसे बाद

में सोनिया गांधी ने माफ कर दिया था| शुक्रवार को आशा देवी ने दोषियों की फांसी में हो रही देरी

को लेकर सरकार पर निशाना साधा| उन्होंने कहा कि वह मुजरिम चाहते थे| वही हो रहा है|

तारीख पर तारीख मिल रही है| हमारा सिस्टम ही ऐसा हो चुका है जिसमें दोषी की ही बात सुनी जाती है|

पर पीड़ित की कोई बात नहीं सुनी जाती है|

 

 दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट ने 7 जनवरी को निर्भया के दोषियों को 22 जनवरी की सुबह 7 बजे

फांसी पर लटकाए जाने का डेथ वारंट दिया था| 17 जनवरी को नया डेथ वारंट जारी किया गया है|

जिसमें 1 फरवरी को सुबह 6 बजे फांसी देने का आदेश दिया गया है|

                                                                                                                      यह भी पढ़ें

US-Iran Tension: ईरान-अमेरिका के बीच तनाव का भारत की अर्थव्यवस्था पर पड़ेगा बुरा असर, जानें कैसे  US-Iran Tension: ईरान-अमेरिका के बीच तनाव का भारत की अर्थव्यवस्था पर पड़ेगा बुरा असर, जानें कैसे

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *