TEJUS PRIVAT TRAIN : भारत की तीसरी निजी रेलगाड़ी इंदौर- वाराणसी के बीच चलाई जाएगी, जाने किस रूट पर चलाई जाएगी

TEJUS PRIVAT TRAIN : भारत की तीसरी निजी रेलगाड़ी इंदौर- वाराणसी के बीच चलाई जाएगी, जाने किस रूट पर चलाई जाएगी
Advertisement
Advertisement
Advertisement

 

TEJUS PRIVAT TRAIN : भारत की तीसरी निजी रेलगाड़ी इंदौर- वाराणसी के बीच चलाई जाएगी, जाने किस रूट पर चलाई जाएगी

  • देश की दूसरी निजी रेलगाड़ी को रेल मंत्री पीयूष गोयल वह गुजरात की मुख्यमंत्री विजय रुपाणी की मौजूदगी में हरी झंडी दिखाई गई थी|
  • देश की दूसरी निजी रेलगाड़ी तेजस 19 जनवरी 2020 को हरी झंडी दिखा दी गई थी|
  • सरकार ने 27000 किलोमीटर दूरी की रेलवे ट्रैक इलेक्ट्रिफिकेशन का लक्ष्य रखा है|

     TEJUS PRIVAT TRAIN : भारत की तीसरी निजी रेलगाड़ी इंदौर- वाराणसी के बीच चलाई जाएगी, जाने किस रूट पर चलाई जाएगी
    आईआरसीटीसी द्वारा संचालन किए गए दो निजी रेलगाड़ी के मार्ग पहला दिल्ली से लखनऊ और दूसरा अहमदाबाद से मुंबई के हैं|

 

गोरखपुर, टीम एरो इंडिया न्यूज़ / शनिवार को रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष विनोद कुमार यादव ने कहा कि

आईआरसीटीसी (IRCTC) की तीसरी निजी रेलगाड़ी इंदौर और वाराणसी के बीच चलाई जाएगी|

विनोद कुमार जी ने यह भी बताया कि रात के समय सफर करने वाली इस रेलगाड़ी के डिब्बे हमसफर

एक्सप्रेस “प्रीमियम ट्रेन” की तरह होंगे| आपको बता दें कि बीते कुछ महीनों में ‘भारतीय रेलवे खानपान

एवं पर्यटन निगम’ (आईआरसीटीसी) ने 2 मार्गों पर अपनी निजी रेलगाड़ियों का संचालन शुरू कर दिया है|

 

आईआरसीटीसी द्वारा संचालन किए गए दो निजी रेलगाड़ी के मार्ग पहला दिल्ली से लखनऊ और

दूसरा अहमदाबाद से मुंबई के हैं| रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष ने कहा कि जो तीसरी निजी रेलगाड़ी चलाई

जाने वाली है वह इंदौर और वाराणसी मार्ग पर चलाई जाएगी |कुछ सूत्रों के अनुसार पता चला है कि

यह रेलगाड़ी एक सप्ताह में 3 दिन चलाई जाएगी| जिसका  रूट 2 दिन लखनऊ होते हुए और 1 दिन

होते हुए चलेगी| आईआरसीटीसी द्वारा संचालित इस तरह पहली रेलगाड़ी होगी जिसमें

चेयर कार नहीं होगी, बल्कि इसमें स्लीपर (SLEEPER) कोच होंगे| इस रेलगाड़ी

                                                                                                            यह भी पढ़ें

INDIAN RAILWAY, पूर्व तटीय रेलवे सरकार का पहला कचरे से बनाने वाला प्लांट स्थापित किया है

          INDIAN RAILWAY, पूर्व तटीय रेलवे सरकार का पहला कचरे से बनाने वाला प्लांट स्थापित किया है                                                                                            

को 20 फरवरी 2020 के आसपास शुरू होने की अनुमान लगाई जा रही है| 

 

रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष ने बताया कि इस तरह की भी योजना है कि डेढ़ सौ (150) रेलगाड़ियों

का संचालन निजी कंपनियों द्वारा किया जाए और इसके तौर-तरीके पर भी काम किया जा रहा है|

और तब तक इनका संचालन आईआरसीटीसी करता रहेगा|

 

देश की पहली निजी रेलगाड़ी कब और कहां चलाई गई थी

आपको बता दें कि देश में पहली निजी रेलगाड़ी (PRIVAT TRAIN) लखनऊ

की बीच चल रही है|

देश की दूसरी  निजी रेलगाड़ी कब और कहां चलाई गई थी

आपको बता दें कि देश की दूसरी निजी रेलगाड़ी तेजस 19 जनवरी 2020 को हरी

झंडी दिखा दी गई थी| जो अभी अहमदाबाद से मुंबई

के बीच चल रही है| देश की दूसरी निजी रेलगाड़ी को रेल मंत्री पीयूष गोयल वह गुजरात की

मुख्यमंत्री विजय रुपाणी की मौजूदगी में हरी झंडी दिखाई गई थी| आपको बता दें कि इस रेलगाड़ी

की संख्या 86902/82901 है| यह ट्रेन हफ्ते में एक दिन छोड़कर बाकी 6 दिन लगातार चलती है|

जिसमें गुरुवार को इसका संचालन नहीं होता है| आईआरसीटीसी इससे पहले लखनऊ से

 

देश की दूसरी निजी रेलगाड़ी को रेल मंत्री पीयूष गोयल वह गुजरात की मुख्यमंत्री विजय रुपाणी की मौजूदगी में हरी झंडी दिखाई गई थी|

 

दिल्ली के बीच देश की पहली प्राइवेट ट्रेन तेजस का संचालन शुरू कर चुकी थी|

आज देश के वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बजट में रेलवे से संबंधित बड़े ऐलान किए हैं|

जिसमें उन्होंने कहा है कि सरकार ने 27000 किलोमीटर दूरी की रेलवे ट्रैक इलेक्ट्रिफिकेशन

का लक्ष्य रखा है| इसी के साथ ही तेजस ट्रेन की संख्या को भी बढ़ाया जाएगा| आपको यह

भी बता दें कि तेजस ट्रेन अब कुछ नए टूरिस्ट डेस्टिनेशन तक जाएगी| ट्रिपल पी (PPP) मॉडल

के तहत 150 प्राइवेट ट्रेन चलाई जाएंगी| इसके अलावा बेंगलुरु में 148 किलोमीटर ऊपनगरिया ट्रेन सिस्टम बनेगा|

इस पूरे बजट में केंद्र सरकार 25 फीसद (%) पैसा देगी| इस पर 18 हजार 600 करोड रुपए खर्च होंगे|

                                                                                                                    यह भी पढ़ें

भारत ने एक और सफलता प्राप्त करते हुए k-4 बैलेस्टिक मिसाइल का सफल परीक्षण किया 3,500 किलोमीटर है मारक क्षमता   भारत ने एक और सफलता प्राप्त करते हुए k-4 बैलेस्टिक मिसाइल का सफल परीक्षण किया 3,500किलोमीटर है मारक क्षमता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »