Mahashivratri 2020 : 21 फरवरी 2020 यानी कल है महाशिवरात्रि, इस पावन त्योहार पर बाबा विश्वनाथ की कहानी बताएंगे

Mahashivratri 2020 : 21 फरवरी 2020 यानी कल है महाशिवरात्रि, इस पावन त्योहार पर बाबा विश्वनाथ की कहानी बताएंगे

Mahashivratri 2020 : 21 फरवरी 2020 यानी कल है महाशिवरात्रि, इस पावन त्योहार पर बाबा विश्वनाथ की कहानी बताएंगे
हर फक्कड़ मस्त बनारसी की तरह बाबा विश्वनाथ भी पान के मायापाश से बरी नहीं हैैं हर रोज मुंह अंधेरे मघई पान घुलाने के बाद ही दरबार की शुरुआत करते हैैं।

 

गोरखपुर, टीम एरो इंडिया न्यूज़ / बाबा विश्वनाथ की पान के मायापाश से बरी नहीं है|

हर रोज दरबार की शुरुआत मुंह अंधेरे मघई पान घुलाने के बाद ही करते हैं| आनंद की

बात यह है कि लॉन्ग-इलायची से  सुवासीत यह बीड़ा 150 वर्षों से एक ही दुकान से आ रही है|

भुल्लन चा ( बैजनाथ पटेल) का परिवार इसे अपना सौभाग्य मानता है कि चार

पीढ़ियों से काशीपुराधीपति की कृपा से उन्हें यह अवसर निरंतर मिलता रहा|

 

दुकानों-प्रतिष्ठानों मैं सुबह की बोहनी करने से पहले पहला पान या कोई भी अन्य

खाद्य-पदार्थ का सामान आराध्य देवों को समर्पित किया जाता है| परंपरा को सिर माथे

लगाएँ पटेल परिवार श्री काशी विश्वनाथ मंदिर में पांच तो उनके आंगन में विराजमान माता

अन्नपूर्णा के लिए दो, ढूंढीराज गणेश को एक माता शीतला मंदिर में पांच पान का दोना

समर्पित कर आता है| यह बाद में प्रसाद स्वरूप भक्तों को भेंट कर दिया जाता है|

यह बात अलग है कि कौन से श्रद्धालु भोले की एक विशिष्ट बीड़े की कृपा प्रसाद सौभाग्य पाता है|

 

Mahashivratri 2020 : 21 फरवरी 2020 यानी कल है महाशिवरात्रि, इस पावन त्योहार पर बाबा विश्वनाथ की कहानी बताएंगे

 

भुल्लन चा परंपरा का जिक्र करते भावुक हो जाते हैं| बताते हैं-देश आजाद होने से पहले

अनेक पिता स्वर्गीय जग्गू पटेल ने उन्हें बाबा समेत अन्य देवालयो में पान पहुंचाने की परंपरा

से अवगत कराया था| और आज भी 150 वर्षो की परंपरा पूरी श्रद्धा से निभाई

जा रही है और आगे भी निभाई जाएंगी| महाशिवरात्रि,  रंगभरी एकादशी व

अन्नकूट और परंपरागत तरीके से काशी के दो दर्जन देवालयो में पान समर्पित किया जाता है|

                                                                                                                           यह भी पढ़ें

राम मंदिर का हर फैसला एकादशी पर, अदालत में फैसले की तारीख के ऐलान से लेकर राम मंदिर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *