अब नहीं करनी होगी किसी नेता की पहरेदारी, NSG को मिली छूट|

 

अब नहीं करनी होगी किसी नेता की पहरेदारी, NSG को मिली छूट|

  • अब नहीं करनी होगी किसी नेता की पहरेदारी|
  • रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कि रक्षा अब NSG की जगह अन्य दूसरे अर्धसैनिक  बल देंगे|
  • केंद्रीय गृह मंत्रालय का यह मानना है कि NSG यानी( Ntional Security Guard) को आतंक विरोधियों अभियानों पर ही अपना ध्यान केंद्रित करना चाहिए| 

     

    अब नहीं करनी होगी किसी नेता की पहरेदारी, NSG को मिली छूट|
    अब नहीं करनी होगी किसी नेता की पहरेदारी, NSG को मिली छूट|

 

 Politics / अब नहीं करनी होगी किसी नेता की पहरेदारी, NSG को मिली छूट| VIP सुरक्षा में

मिली बड़ी कटौती करने और गांधी परिवार से स्पेशल सुरक्षा दल यानी स्पेशल

प्रोटेक्शन ग्रुप को हटाने के बाद अब केंद्र सरकार ने गढमंडलों की सिक्योरिटी  से NSG को

हटाने का फैसला लिया है| आधिकारिक सूत्रों ने यह जानकारी दी है सरकार के इस फैसले से

दो दशकों से भी अधिक समय के बाद ऐसा होने जा रहा है जब घातक आतंकविरोधी बल

के ब्लैक कैट कमांडोज VIP नेताओं की सुरक्षा में तैनात नहीं होंगे|

 

आपको बता दें की NSG  वीआईपी लोगों को निजी सुरक्षा और मोबाइल सुरक्षा कवच प्रदान करता है| 

 केंद्र सरकार ने पिछले साल गांधी परिवार से SPG सुरक्षा वापस लेने की फैसला किया था| इसके

बदले सरकार ने गांधी परिवार के सोनिया गांधी, राहुल गांधी, प्रियंका गांधी वाड्रा को SPG 

अब नहीं करनी होगी किसी नेता की पहरेदारी, NSG को मिली छूट|

सुरक्षा के बजाय SCRPF की सुरक्षा देने का फैसला किया है|

 

हाई रैंकिंग गवर्नमेंट सोर्स ने बताया सरकार के ताजा फैसले के बाद रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह

                                                                                          यह भी पढ़ें

       गोपीचंद का किताब मैं खुलासा पता नहीं क्यों प्रकाश पादुकोण       गोपीचंद का किताब

और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कि रक्षा अब NSG की जगह अन्य दूसरे अर्धसैनिक  बल देंगे|

NSG से सुरक्षा पाने वाले पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ,मुलायम सिंह यादव, चंद्रबाबू नायडू, प्रकाश सिंह,

फारूक अब्दुल्लाह असम के मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल और भाजपा के कई नेता और उप प्रधानमंत्री

एलके आडवाणी  भी शामिल है| कहा जा रहा है कि वीआईपी व्यक्तियों को दी जा रही सुरक्षा का

मामला केंद्रीय गृह मंत्रालय के अधीन आता है| SPG इंटेलिजेंस ब्यूरो के रूप में काम करती है|

गृह मंत्रालय समय-समय पर VIP सुरक्षाओं का समीक्षा करता है| जिसके मुताबिक सुरक्षा को एक वक्त

पर घटाई बढ़ाई जाती है| VIP सुरक्षा देने के लिए SPG के अलावा देश में एक्स वाई जेड ( xyz ) 

और जेड प्लस ( z+ ) की भी सुरक्षा दी गई है| केंद्रीय गृह मंत्रालय का यह मानना है कि NSG

यानी( Ntional Security Guard) को आतंक विरोधियों अभियानों पर ही अपना ध्यान केंद्रित करना चाहिए|

                                                                                                                        यह भी पढ़ें

रक्षा सचिव ने कहा एयरफोर्स की जरूरत को पूरा करने के लिए भारत जल्द 200 लड़ाकू    रक्षा सचिव

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *